Re Kabira 011 - हम सोचते हैं

--o Re Kabira 011 o--
 
हम सोचते हैं 

हम सोचते हैं, महात्मा पंडित क़ादरी दे गया और बाबा ठाकुर दलित ।
पर देख नहीं सकते ,चाचा के तब मजे थे और अब ताऊ-नेता-बहन-बहु के ।।
हम लोग कल भी अकड़े थे और आज भी चौड़े हैं ।
हम पहले भी मंद थे और अब भी मूरख हैं ।।

Translation: We are made to believe that Mahatma supported the nation being divided based on religion, and Ambedkar divided based on reservation. But we can't see that politicians took advantage at all times using the policy of divide & rule. And supporters followed them stubbornly without using any common sense at all.

--o आशुतोष झुड़ेले o--

Ashutosh Jhureley 

--o Re Kabira 011 o--
#caste #class #religion #region #equality #bias 

Most Loved >>>

क्यों न एक प्याली चाय हो जाए - Re Kabira 091

मिलना ज़रूरी है - Re Kabira 092

तुम कहते होगे - Re Kabira 093

Inspirational Poets - Ramchandra Narayanji Dwivedi "Pradeep"

उठ जा मेरी ज़िन्दगी तू - Re Kabira 090

चलो नर्मदा नहा आओ - Re Kabira 088

Re Kabira - सर्वे भवन्तु सुखिनः (Sarve Bhavantu Sukhinah)

Re kabira 085 - चुरा ले गये

Re Kabira 087 - पहचानो तुम कौन हो?

Re Kabira 055 - चिड़िया