Re Kabira 0021 - हरी हरे मेरे दशहरा

--o Re Kabira 021 o--

हरी हरे मेरे दशहरा

भजूं मैं हरी नाम सदा, हरी हरे मेरे 
दुश  इस "दशहरा" | 
विरोध करुँ मैं अमानवता का, हो कर्म मेरे स्वार्थ बिना |
क्रोध न भारी पड़े मस्तक पर, मत्सर न आये कभी विचारों में | 
काम-वासना से मुक्त हो जीवन, न दिखे लोभ जब में देखूं दर्पण |
न सहूँ न होने दूँ अन्याय, न ही झूमूँ डूब अहंकार में  |
मद न आये मेरे आचार में , मोह न डाले अड़चन मेरे व्यव्हार में  |  
भजूं मैं हरी नाम सदा, हरी हरे मेरे दुश इस "दशहरा" || 

"Happy Vijayadashami"


आशुतोष झुड़ेले

Ashutosh Jhureley

--o Re Kabira 021 o--


#अमानवता #Cruelty

#अहंकार #Ego
#अन्याय #Injustice
#काम-वासना #Lust
#क्रोध #Anger
#लोभ #Greed
#मद #Pride
#मोह #Attachment
#स्वार्थ #Selfishness
#मत्सर #Jealousy

Dussehra
Dus (दुश) meaning "bad, evil, sinful" and Hara (हर) means "removing, destroying", connoting "removing the bad, destroying the evil, sinful".




Most Loved >>>

Re Kabira 087 - पहचानो तुम कौन हो?

चलो नर्मदा नहा आओ - Re Kabira 088

Re Kabira 086 - पतंग सी ज़िन्दगी

Re kabira 085 - चुरा ले गये

Re Kabira 084 - हिचकियाँ

उठ जा मेरी ज़िन्दगी तू - Re Kabira 090

तमाशा बन गया - Re Kabira 089

Inspirational Poets - Ramchandra Narayanji Dwivedi "Pradeep"

Re Kabira 065 - वो कुल्फी वाला

Re Kabira 083 - वास्ता