Re Kabira 0041 - शुभ दीपावली

--o Re Kabira 0041 o--


न हो कोई विकार, अच्छे हो हमारे विचार | 
न हो कहीँ अंधकार, जगमग हो हमारा संसार || 
हो लक्ष्मी और सरस्वती, हम सभी के द्वार  | 
हो स्वस्थ और सुरक्षित, हम सभी का परिवार ||  

आशुतोष
Ashutosh Jhureley

|| शुभ दीपावली || 
|| Wishing you a Happy Deepawali & New Year ||


--o Re Kabira 0041 o--

Most Loved >>>

क्यों न एक प्याली चाय हो जाए - Re Kabira 091

मिलना ज़रूरी है - Re Kabira 092

तुम कहते होगे - Re Kabira 093

Inspirational Poets - Ramchandra Narayanji Dwivedi "Pradeep"

उठ जा मेरी ज़िन्दगी तू - Re Kabira 090

चलो नर्मदा नहा आओ - Re Kabira 088

Re Kabira - सर्वे भवन्तु सुखिनः (Sarve Bhavantu Sukhinah)

Re kabira 085 - चुरा ले गये

Re Kabira 087 - पहचानो तुम कौन हो?

Re Kabira 055 - चिड़िया