Re Kabira 046 - नज़र


-o Re Kabira 046 o--



नज़र 

मुश्किलों की तो फ़ितरत है, आती ही हैं नामुनासिब वक़्त पर
अरे रफ़ीक वक़्त गलत नहीं, थिरका भी है कभी तुम्हारी नज़्मों पर 

होठों पर हो वो ग़ज़ल, जो ले जाती थी तुम्हें रंगो संग आसमाँ पर
मुसीबतें नहीं हैं ये असल, वो ले रही इम्तेहाँ ज़माने संग ज़मीं पर

डरते है हम अक्सर ये सोच कर, नज़र लग गई ख़ुशियों पर 
बोले रे कबीरा क्या कभी लगी, मेरे ख़ुदा की नज़र बंदे पर



आशुतोष झुड़ेले
Ashutosh Jhureley
@OReKabira


--o Re Kabira 046 o--

Most Loved >>>

एक बूँद की औकात - Re Kabira 094

तुम कहते होगे - Re Kabira 093

शौक़ नहीं दोस्तों - Re Kabira 095

मिलना ज़रूरी है - Re Kabira 092

क्यों न एक प्याली चाय हो जाए - Re Kabira 091

चलो नर्मदा नहा आओ - Re Kabira 088

उठ जा मेरी ज़िन्दगी तू - Re Kabira 090

Re Kabira 086 - पतंग सी ज़िन्दगी

Re Kabira - सर्वे भवन्तु सुखिनः (Sarve Bhavantu Sukhinah)

Inspirational Poets - Ramchandra Narayanji Dwivedi "Pradeep"