Re Kabira 054 - इतनी जल्दी थी

--o Re Kabira 054 o--


इतनी जल्दी थी

जाने की इतनी जल्दी थी सीधे ख़ुदा से क्यों बात कर ली,
जिस तरह चले गए ऐसी कोई भी बात इतनी बड़ी थी भली। 

इतनी तेज भागते रहे की साँस लेने फ़ुरसत मिली ही नहीं,
न तुमने देखा न तुमको देखा कब कदम थम गए बस वहीं। 

चिल्लाए तो बहुत पर आवाज़ पलट कर आयी ही नहीं,
हज़ारों दोस्त हैं पर एक को भी तकलीफ़ दिखाई दी नहीं। 

सारे दोस्त मुज़रिम हैं क्यों कल उससे बात नहीं कर ली,
जाने की इतनी जल्दी थी सीधे ख़ुदा से क्यों बात कर ली।


आशुतोष झुड़ेले
Ashutosh Jhureley
@OReKabira


He couldn’t find someone to talk only option was to meet God. All the friends are now feeling guilty why they didn’t speak with him yesterday.

#MentalHealthMatters #RIPSSR #JustTalk

--o Re Kabira 054 o--

Most Loved >>>

एक बूँद की औकात - Re Kabira 094

तुम कहते होगे - Re Kabira 093

शौक़ नहीं दोस्तों - Re Kabira 095

मिलना ज़रूरी है - Re Kabira 092

क्यों न एक प्याली चाय हो जाए - Re Kabira 091

चलो नर्मदा नहा आओ - Re Kabira 088

उठ जा मेरी ज़िन्दगी तू - Re Kabira 090

Re Kabira 086 - पतंग सी ज़िन्दगी

Re Kabira - सर्वे भवन्तु सुखिनः (Sarve Bhavantu Sukhinah)

Inspirational Poets - Ramchandra Narayanji Dwivedi "Pradeep"