Re kabira 085 - चुरा ले गये

 --o Re Kabira 85 o--

चुरा ले गये 

चुरा ले ग सुबह से ताज़गी,

कुछ लोग शाम से सादगी चुरा ले ग

 

चुरा ले ग ज़िन्दगी से दिल्लगी,

कुछ लोग बन्दे से बंदगी चुरा ले ग

 

चुरा ले ग आईने से अक्स,

कुछ लोग मेरी परछाईं चुरा ले ग

 

चुरा ले ग दिल का चैन,

कुछ लोग आँसुओं से नमी चुरा ले ग

 

चुरा ले गये बादलों से सतरंग,

कुछ लोग पहली बारि की ख़ुशबू चुरा ले ग

 

चुरा ले ग बागीचे से फूल.

कुछ लोग आँगन की मिट्टी ही चुरा ले ग

 

चुरा ले ग जिश्म से रूह,

कुछ लोग कब्र से लाश चुरा ले ग

 

चुरा के आ ख़ाक में डूबी चौखट पर ओ रे कबीरा,

कुछ लोग चार आने का हिसाब ले ग




आशुतोष झुड़ेले
Ashutosh Jhureley
@OReKabira

 --o Re Kabira 85 o--

Most Loved >>>

Re Kabira 087 - पहचानो तुम कौन हो?

चलो नर्मदा नहा आओ - Re Kabira 088

Re Kabira 086 - पतंग सी ज़िन्दगी

Re Kabira 084 - हिचकियाँ

उठ जा मेरी ज़िन्दगी तू - Re Kabira 090

तमाशा बन गया - Re Kabira 089

Inspirational Poets - Ramchandra Narayanji Dwivedi "Pradeep"

Re Kabira 065 - वो कुल्फी वाला

Re Kabira 083 - वास्ता