Re Kabira 0030 - Life is full of colours

--o Re Kabira 0030 o--
Holi 2018

सतरंगन 

बोले ओ रे कबीरा,  मूरख ! जे संसार लिपा सतरंगन में।
काहे खोजे मानुष मतलब को, काले-सफ़ेद शब्दन में।।

बोली जसोदा रंग दे राधा, गोपन को सतरंगन में।
न चढ़े तोहे कोई रंग, देख ले प्रेम रंग नैन में।।

आज सब खेरो होली, चपेड़ सबको सतरंगन में।
हस दो एक दूजे पे, होर देख खुदको दरपन में।।

।। होली है ।।

Happy Holi

Life is full of colors, then why is everyone trying to find meaning in black-and-white words (books). No color can overcome the color of love. On Holi, smile at yourself and laugh away all the sorrows with colors in your life.

।। Happy Holi ।।




--o आशुतोष झुड़ेले o--
--o Ashutosh Jhureley o--

2018

--o Re Kabira 0030 o--

Most Loved >>>

रखो सोच किसान जैसी - Re Kabira 096

शौक़ नहीं दोस्तों - Re Kabira 095

एक बूँद की औकात - Re Kabira 094

Re Kabira - सर्वे भवन्तु सुखिनः (Sarve Bhavantu Sukhinah)

क्यों न एक प्याली चाय हो जाए - Re Kabira 091

Re Kabira 055 - चिड़िया

मिलना ज़रूरी है - Re Kabira 092

Inspirational Poets - Ramchandra Narayanji Dwivedi "Pradeep"

तुम कहते होगे - Re Kabira 093

उठ जा मेरी ज़िन्दगी तू - Re Kabira 090