Re Kabira 0042 - Lets Spread Colours.. of Love

--o Re Kabira 0042 o--




होली है

सब बोलें न चढ़े कोई रंग, जब हो हर तरफ लाल रंग।  
छुप गया नीला आकाश, खो गया सतरंगी गगन।।

बट गए नारंगी-हरे रंग, थक गये हम देख काले-सफ़ेद रंग।  
दिखती नहीं रंगीन वादियां, तितलियों ने खोया रसिक ढंग।।

गर्म हो गया पवन का मन, लहरें भूल गयीं खनक छन-छन।    
वापस आने दो लकड़पन, हस लो सोच के चंचल बचपन।।  

लो जे आ गयी होली ले के बसंत, हर तरफ होगा बस रंग ही रंग।  
जो बोले न चढ़े  कोई रंग, चपेड़ दो उनको नीला-पीला संग प्रेम रंग।। 

।। होली है  ।।
।। Happy Holi ।। 

2019

Life is full of colors, don't let negativity take over and hide colors all around us. 
On the occasion of Holi let's celebrate Spring and spread 
colors .. colors of love.




--o आशुतोष झुड़ेले o--

Ashutosh Jhureley


--o Re Kabira 0042 o--

Most Loved >>>

Re Kabira 087 - पहचानो तुम कौन हो?

चलो नर्मदा नहा आओ - Re Kabira 088

Re Kabira 086 - पतंग सी ज़िन्दगी

Re kabira 085 - चुरा ले गये

Re Kabira 084 - हिचकियाँ

उठ जा मेरी ज़िन्दगी तू - Re Kabira 090

तमाशा बन गया - Re Kabira 089

Inspirational Poets - Ramchandra Narayanji Dwivedi "Pradeep"

Re Kabira 065 - वो कुल्फी वाला

Re Kabira 083 - वास्ता