Re Kabira 0067 - लता जी का तप

--o Re Kabira 067 o--



माँ सरस्वती का तप करो तो ऐसे,
किया जप लता जी ने है जैसे,
आत्मा ने छोड़ा नहीं देह तब तक,
कर न ली अंतिम वंदना जब तक ।

#LataMangeshkar
1929 - 2022
🙏🏽
#RIPLataMangeshkar


आशुतोष झुड़ेले
Ashutosh Jhureley
@OReKabira

--o Re Kabira 067 o--

Most Loved >>>

एक बूँद की औकात - Re Kabira 094

तुम कहते होगे - Re Kabira 093

शौक़ नहीं दोस्तों - Re Kabira 095

मिलना ज़रूरी है - Re Kabira 092

क्यों न एक प्याली चाय हो जाए - Re Kabira 091

चलो नर्मदा नहा आओ - Re Kabira 088

उठ जा मेरी ज़िन्दगी तू - Re Kabira 090

Re Kabira 086 - पतंग सी ज़िन्दगी

Re Kabira - सर्वे भवन्तु सुखिनः (Sarve Bhavantu Sukhinah)

Inspirational Poets - Ramchandra Narayanji Dwivedi "Pradeep"