Re Kabira 082 - बेगाना

 --o Re Kabira 82 o--



बेगाना

थोड़ी धूप थोड़ी छाँव का वादा था,
थी चेहरे पर मुस्कराहट और मुश्किलें झेलने का इरादा था

ढूंढ़ती रही आँखें खुशियाँ, पर आँसुओं का हर कदम सहारा था
मुसाफिर बन निकल तो चला, अनजान कि जीवन भी एक अखाड़ा था 

चारों तरफ़ थी ऊँची दीवारें, हर रुकावट से टकराने का वादा था,
थी हिम्मत तूफानों से लड़ने की और चट्टानो को तोड़ कर जाने का इरादा था 

एक तरफ जज़्बा, दूसरी ओर जोश का किनारा था
पता नहीं कौन जीता और किसको हार का इशारा था

पता था आसान नहीं होगा, पर आगे बढ़ते रहने का वादा था
रोका पाँव के छालों ने और कटीले रास्तों ने पर न रुकने का इरादा था 

मील के पत्थर तो मिले बहुत, पर मंज़िल अभी भी एक नज़ारा था
थी मंज़िल हमसफ़र ...  ओ रे कबीरा बेहोश बिलकुल बेगाना था

थोड़ी धूप थोड़ी छाँव का वादा था,
थोड़ी धूप थोड़ी छाँव का वादा था


आशुतोष झुड़ेले
Ashutosh Jhureley
@OReKabira

 --o Re Kabira 82 o--

Most Loved >>>

रखो सोच किसान जैसी - Re Kabira 096

शौक़ नहीं दोस्तों - Re Kabira 095

एक बूँद की औकात - Re Kabira 094

Re Kabira - सर्वे भवन्तु सुखिनः (Sarve Bhavantu Sukhinah)

क्यों न एक प्याली चाय हो जाए - Re Kabira 091

Re Kabira 055 - चिड़िया

मिलना ज़रूरी है - Re Kabira 092

Inspirational Poets - Ramchandra Narayanji Dwivedi "Pradeep"

तुम कहते होगे - Re Kabira 093

उठ जा मेरी ज़िन्दगी तू - Re Kabira 090